blogid : 4920 postid : 664727

क्या मोदी का करिश्मा केजरीवाल के सामने फीका पड़ जाएगा?

Posted On: 9 Dec, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को तीसरे स्थान पर धकेलने के साथ ही भाजपा को सत्ता से वंचित कर देने वाली आम आदमी पार्टी यानि ‘आप’ का अकल्पनीय उभार राजनीति की नई परिभाषा गढ़ने के साथ ही एक नया संकेत भी दे रहा है। राजनैतिक विश्लेषकों के लिए ‘आप’ की यह सफलता विमर्श का विषय बन चुकी है साथ ही वर्ष 2014 में होने वाले लोकसभा चुनावों में भारी जीत का दावा करने वाली भाजपा के लिए भी चिंतन-मनन की गुंजाइश छोड़ जाती है।


दिल्ली की राजनीति में ‘आप’ की उल्लेखनीय सफलता से राजनैतिक विशेषज्ञों का एक समूह यह कयास लगाने लगा है कि भावी लोकसभा चुनाव में ‘आप’ एक महत्वपूर्ण चुनौती बन कर सामने आ सकता है। यदि अब भी भाजपा ने अपनी रणनीति पर मंथन नहीं किया तो अपने उभार के क्रम में ‘आप’ भाजपा तथा नरेन्द्र मोदी के विजय रथ पर प्रभावी अंकुश लगा पाने में सक्षम हो सकता है। ‘आप’ की आमजन की राजनीति और आम सरोकारों वाले मुद्दे मध्यम तथा निचले तबकों के लिए एक उम्मीद की किरण बन कर सामने आए हैं ऐसे में यदि ‘आप’ ने दिल्ली से आगे अपने कदम बढ़ाए तो उसे अप्रत्याशित उपलब्धि हासिल हो सकती है तथा देश को कांग्रेस व भाजपा से इतर एक तीसरा सशक्त विकल्प हासिल हो सकता है।


वहीं इसके ठीक विपरीत कई ऐसे बुद्धिजीवी हैं जिनका मानना है कि विधानसभा तथा लोकसभा चुनाव में मुद्दे बिलकुल अलग होते हैं एवं उनकी प्रभावशीलता का ढंग भी अलग होता है। ‘आप’ की दिल्ली में सफलता यह बात कतई सिद्ध नहीं करती कि उसकी राष्ट्रीय राजनीति में भी उपलब्धि ऐसे ही रहेगी तथा वह नरेन्द्र मोदी के विजय अभियान को प्रभावित करेगी। अभी ‘आप’ को बहुत मेहनत करने की आवश्यकता है क्योंकि उसकी राजनैतिक जमीन केवल और केवल दिल्ली तक सीमित है।


उपरोक्त मुद्दे के दोनों पक्षों पर गौर करने के बाद निम्नलिखित प्रश्न हमारे सामने आते हैं जिनका जवाब ढूंढ़ना नितांत आवश्यक है, जैसे:


1. क्या दिल्ली विधानसभा चुनावों के नतीजे भावी लोकसभा चुनाव में भाजपा की हार की झलक हैं?

2. क्या नरेंद्र मोदी का जादू अरविंद केजरीवाल के सामने असफल हो सकता है?

3. क्या दिल्ली की तरह पूरे देश में अरविंद केजरीवाल आम जनता को खुद से जोड़ने में सक्षम हो सकेंगे?

4. क्या ‘आप’ की वोट कटिंग का फायदा लेकर कांग्रेस का तीसरी बार सत्ता में आने का अंदेशा बनता है?


जागरण जंक्शन इस बार के फोरम में अपने पाठकों से इस बेहद महत्वपूर्ण और संवेदनशील मुद्दे पर विचार रखे जाने की अपेक्षा करता है। इस बार का मुद्दा है:


क्या मोदी का करिश्मा केजरीवाल के सामने फीका पड़ जाएगा?


आप उपरोक्त मुद्दे पर अपने विचार स्वतंत्र ब्लॉग या टिप्पणी लिख कर जाहिर कर सकते हैं।


नोट: 1. यदि आप उपरोक्त मुद्दे पर अपना ब्लॉग लिख रहे हैं तो कृपया शीर्षक में अंग्रेजी में “Jagran Junction Forum” अवश्य लिखें। उदाहरण के तौर पर यदि आपका शीर्षक “मोदी का जादू” है तो इसे प्रकाशित करने के पूर्व मोदी का जादू – Jagran Junction Forum लिख कर जारी कर सकते हैं।

2. पाठकों की सुविधा के लिए Junction Forum नामक कैटगरी भी सृजित की गई है। आप प्रकाशित करने के पूर्व इस कैटगरी का भी चयन कर सकते हैं।


धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

22 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

dhirendra chauhan के द्वारा
February 9, 2015

केजरीवाल जरूर मोदी की राजनीति ख़त्म कर सकता है लेकिन दिल्ली चुनाव की तरह ही लड़ना पड़ेगा ! 1. टीवी मिडिया बाइक हुए चैनलों की तरह वर्ताव करे दिन रात केजरीवाल की खुजली की भी तारीफ़ करे ! 2. मुलायम , मायावती , लालू , नितीश कुमार , ममता बनर्जी , जय ललिता , कोंग्रेश , बीजू पटनायक , सीपीएम , सीपीआई , टीआरएस , एम आई एम , पीडीपी . नेशनल कॉन्फ्रेंसः , इंडियन मुजाहिदीन जैसे संगठन अगर अपनी आहुति अगर केजरीवाल रुपी यज्ञ में दे दें और चुनाव न लड़े ! 3. सारे देश में बिजली पानी , वाई फाई , टैक्स फ्री कर दें और घर के पैसे से सरकार चलायें ! 4.सभी बेरोजगारों को सरकारी नौकरी दे दें ! 5. पढ़ाई और मेडिकल १०० % फ्री कर दें ! इसके बाद वो आसानी से प्रधान मंत्री बन सकते हैं और अगर वो दिल्ली में अपने किये वादे पूरे कर दिए तो मैं समझता हूँ अगले प्रधानमंत्री केजरीवाल होंगे ! ५४३ सीटों में से ५४३ सीटें जीतेंगे ! कोई ये न कहे की मोदी के भक्त ऐसी बाते झल्लाहट में कर रहे हैं इसलिए बता दूँ मैंने इतना सब दिल्ली के इलेक्शन में देखा है यही हुआ है ! वास्तव में केजरीवाल एक पागल और सनकी है अगर केजरीवाल १ साल सरकार चला ले बहुत बड़ी बात है ! उसके पास चोरों और बदमाशों की फ़ौज है जो किसी दिन खुद ही केजरीवाल को ठिकाने लगा देंगे !

sharad yadav के द्वारा
December 19, 2013

MODI IS BEST PRIME MINISTER OF INDIA IN FUTURE

XTREME के द्वारा
December 16, 2013

पॉलीटिक्स है ..लेकिन केजरीवाल ही जितेगा 

    samay lal kushwaha के द्वारा
    December 16, 2013

    kejeriwal ko ab sakar bana leni chahiye ,ye nanhi bhulna chahiye ki ye junta me Jo biswash Katayama hair sumo tornado nanhi chahiye.

RAJISH के द्वारा
December 16, 2013

YES MODI FIKE PAD JAYIGI

avdhesh के द्वारा
December 15, 2013

केजरीवाल की बाल हठ …………… चूहे को हल्दी की गाँठ मिलने से पंसारी बनने जैसा हो गया आम आदमी पार्टी का हिसाब ,……… बच्चो जैसी जिद्द करते हुए कहते है कि ना खेलेंगे ना खेलने देंगे पिच को करेंगे खराब ! ………………………………….. पहले अन्ना को धोखा दिया अब जनता को धोखा दे रहे है क्योंकि ये है दगाबाज ,……… कॉंग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने से खुल सकता है गुप्त समझोते का राज ! ………………………………….. दरअसल मोदी से घबराकर भाजपा के वोट काटने के लिए कॉंग्रेस ने चली थी ये चाल ,……… कांग्रेस की खिलापत करके भाजपा के बढ़े हुए वोट बैंक मे सेंध लगाएगा केजरीवाल ! ………………………………….. कांग्रेस की चाल उल्टी पड़ गयी क्योंकि केजरीवाल को मिले ज़रूरत से ज़्यादा वोट ,……… केजरीवाल वायदे के अनुसार सरकार चला नही सकते इसीलिए निकाल रहे है सबमे खोट ! ………………………………….. ये तो ऐसे बल्लेबाज है जो खेलने से पहले चाहते है करना मैच का परिणाम निर्धारित ,……… ऐसे प्रेमी है जो रंगरलिया तो मना सकते है लेकिन शादी करने से होते है भयभीत ! ………………………………….. अब तो कॉंग्रेस भी नही चाहती कि लोकसभा चुनाव से पहले सरकार बनाए इनके मित्र ,……… लंबे छोड़े वायदे पूरे नही कर पाएँगे जनता को पता चल जाएगा इनका असली चरित्र ! ………………………………….. केजरी बाबू, दिल्ली से अतिउत्साहित होकर आपने कर दी मोदी को ललकारने की भूल ,……… इसके बारे मे तो यही कहेंगे कि गीदड़ शहर की तरफ तब भागता है जब समय हो प्रतिकूल ! ………………………………….. अवधेश राणा

    Ajay SinghGKP के द्वारा
    December 26, 2013

    भाजपा की बौखलाहट का परिचय है ये प्रतिक्रिया. मोदी बिल्ले के सामने जब तक राहुल चुहा था तब तक वो अपने शेर समझ बैठा था अब सामने सच का शेर है तो बौखलाहट स्वभाविक है.

Nanda b Gaire के द्वारा
December 15, 2013

मोदीजी को कोइ रोक नहीं प।एग। भ।जप। को जीत।ने से 

s rajan के द्वारा
December 15, 2013

आप पार्टी का उदय ही कांग्रेस पार्टी कि खुली लूट व देश कि जनता को बेवकूफ समझने व बी जे पी का भी सत्ता भोगने व जनता को केवल अपने वाक् चातुर्य से बेवकूफ बनाने के कारण जनता में उठे आक्रोश का परिणाम था .अभी या पहले जनता में या दूरदर्शन में हो रही बहस में कहीं भी कांग्रेस या बी जे पी अलग नहीं दिखाई पड़ती .कहाँ है वो राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ जो कि अपने आदर्शों के लिए जाना जाता है व आम आदमी में यह भरोसा है कि बी जे पी को सही रास्ते पर ले जाने में वो अपनी भूमिका निभाएगा .आज देश में इतने गम्भीर विषयों पर बहस चल रही है वो चाहे चंदे में पारदर्शिता कि हो या सार्वजनिक जीवन में सुचिता कि हो लगता है कि बी जे पी का रिमोट कंट्रोल भी देश कि प्रदूषित हवा में रंग गया है वर्ना देश कि इतनी गम्भीर चिंता में स्वयं को अलग क्यों रख रहा है .कहाँ तो वो समय समय पर अपने पत्र के माध्यम से देश को अपनी राय से अवगत करता रहता था .क्या उसको भी राहुल गांधी कि हवा लग गई है . अब जहाँ तक मोदी के करिश्मे कि बात है वो तो अभी तक कांग्रेस के खिलाफ ही सफल हुए हैं क्योंकि कांग्रेस भर्ष्टाचार में इतनी डूबी हुई है कि उसके खिलाफ सफल होना आसान है लेकिन जब सामना होगा आप से ,तीखे व नैतिक प्रश्नो को झेलना आसान नहीं होगा तब देखना होगा क्या उस समय भी कांग्रेस व बी जे पी एक दुसरे का साथ देती हैं .यदि ऐसा होता है तो यह इस देश के इतिहास का नया पन्ना होगा .लेकिन मोदी का करिश्मा तो केवल कांगेस के खिलाफ है केजरीवाल के खिलाफ उनका करिश्मा तो आजकल कि टी वी बहस को देख कर लगाया जा सकता है कि वो कितने हलके साबित हो रहे है .

    Ajay SinghGKP के द्वारा
    December 26, 2013

    बिलकुल सही बात कहा है आपने. 

basant के द्वारा
December 13, 2013

केजरीवाल ने अब तक भ्रष्टाचार से मुक्ति के वादे करके सत्ता को हथियाने का प्रयास करने के सिवा कौन सा जनकल्याण का काम किया है ? अन्ना के आंदोलन की आड़ में राजनितिक यात्रा शुरू की और जब कुछ करने की जिम्मेदारी जनता ने सौंपी तो अपने पैर पीछे खींच रहे हैं . नरेंद्र मोदी ने अपने शासनकाल में गुजरात में विकास का काम करके एक मॉडल प्रस्तुत किया है .

MANTU KUMAR SATYAM के द्वारा
December 12, 2013

BLOGG/JOURNAL- IN INDIA, HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES ,O.B.C WEAKER SECTIONS ,S.C/S.T DEVELOPMENT ,BUSSINESS , INDUSTRY,TENDER VERY -VERY BIG ROLE OF POVERTY SOLUTION JOIN SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND MBBS / MD / MS DEGREE / PROFFESION …….. … ALSO READ MY BLOG-http :/ / mantusatyam.blogspot.com/2013/08 / ……. BELOW THE BLOGG/JOURNAL WANT TO PUBLISH ……….. BLOG DETAIL-concerned, political, economical and social in reference INDIA, HINDU RELIGION caste system social structure, caste power (DABANG), business (INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system, caste power (DABANG), development or advancement or business (INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste / INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of LLB / LLM and MBBS / MD / MS degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power (DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very – very small role or huge difference COMPARISON than LAW and MBBS / MD / MS HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development, POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer MBBS / MD / MS the casts benefit of 10% of sufficient number. SUFFICIENT NUMBER LAWYER WITH MBBS / MD / MS OF HINDU RELIGION OF INDIVIDUAL CASTES FACE / SOLVE ALL ARISE POLITICAL PROBLEM OF DEVELOPMENT. . Its important in other word say it, IN INDIA, HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN, BHUMIHAR, RAJPUT, KAYASTH, KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business, govt tender, land owner etc. Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and MBBS / MD / MS degree of individual general castes, HINDU RELIGION, INDIA for the maintain of caste power, advancement / development like huge scale of business, land owner and govt tender. Without sufficient no.of LAWYER and MBBS / MD / MS degree HINDU RELIGION, general caste / and other huge scale of business, INDIA (due to same of complicated HINDU RELIGION, CASTE social structure in INDIA) have many factors / issue arises of huge scale business, huge scale LAND OWNER, GOVT. TENDER etcIts have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION, INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and MBBS / MD / MS In some cases it have to seen. Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of LLB / LLM and MBBS / MD / MS degree In under of the self / own HINDU religion (minority CASTES), INDIA of complicated caste structure face very-very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers. Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three) rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario LOW POPULATION caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS degree more development like power business complicated caste social structure rather then SC / ST join the profession politicians and officers in long to long time / year in same conditions.Also they caste have sufficient number lawyer acquire good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then SC and ST. It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of LLB / LLM. Also KURMI caste in BIHAR / JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S / MD /M.S NOTE-In the point of view LLB / LLM and MBBS / MD / MS not meaning of only court and medicine practice (ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective / efficient due to key point / key master of caste power, business, land owner, govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS, by which caste persons LAWYER and MBBS / MD / MS degree or professionals occupied have not done self / own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business (INDUSTRY) NOTE-In the point of view B.TECH / M.TECH and MBA have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion, INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand, complicated issue from powerful castes etcBut it have not problem of HINDU RELIGION more population caste in INDIA …….

आम आदमी के द्वारा
December 12, 2013

केजरीवाल को मोदी लहर का फायदा मिला है जो ज्‍यादा टिकने वाला नहीं है ा केजरीवालजी याद रखें आपने जो सपना देखा वो ना तो पूरा हुआ है ना ही किसी काम आया है आपके विचारों में क्रांति नहीं अहंकारिता का दर्प छा गया है मोदी महान है मोदी इन्‍सान है उनको सोच देखो चाय वाले से जीवन की शुरूआत हुई जो इस मकाम पे है और आपकी शुरूआत तो भारतीय अफसरशाही से हुई है केजरीवालजी तुलना करके मत चलिये नई दिशा में जो भी सकारात्‍मक है उसे स्‍वीकार करके चलिये बाकि आपकी मर्जि

basant के द्वारा
December 11, 2013

केजरीवाल की महत्वकांक्षा दिल्ली चुनाव के परिणाम को देखकर अचानक ज्यादा ही बढ़ गयी . यह ठीक है कि महंगाई भ्रस्टाचार से त्रस्त जनता ने आ.आ पा. को आगे बढ़ाया पर बी जे पि को भी नहीं नाकारा है, बावजूद इसके केजरीवाल बीजेपी को कोसते रहें और दिल्ली को अराजकता की ओर धकेलें तो यह उनकी राजनितिक भूल होगी. जनता आप के काम को देखकर मूल्यांकन करेगी न की भाषणों को सुनकर . भले ही एक साल तक ही सही कुछ तो काम करके दिखा सकते हो और फिर जनता के पास जनादेश लेने को पुनः जाओ क्रम से चलो नहीं तो जनता का कुछ भला नहीं होने वाला है .

avdhesh के द्वारा
December 11, 2013

ताज़गी लेकर आई नयी सुबह ताज़गी लेकर आए चुनाव परिणाम , देश के भविष्य की उम्मीद जागी लगता है अब अब बदलेगा हिन्दुस्तान ! …………………………………. राजस्थान दिल्ली मे हराकर लोगो ने बंद की कांग्रेसी बड़बोलो की ज़ुबान ! छत्तीसगढ़ मध्यप्रदेश ने भाजपा को जिताकर बढ़ाया मोदी का मान , …………………………………. इन चुनाव प्रिणामो को देखकर लगता है देश के लोगो ने लिया है ठान , मोदी को ही देश प्रधानमंत्री बनाना है मिटाके कॉंग्रेस का नामो निशान ! …………………………………. लगने लगा है भ्रष्टाचार ख़तम होगा जेल जाएँगे लुटूरे और बेईमान , धर्मनिरपेक्षता का ढोंग नही होगा क़ानून होगा सब धर्मो के लिए समान ! …………………………………. अब कोई भूखा नही रहेगा सबको मिलेगी शिक्षा सबको मिलेगा ज्ञान , कोई भी सड़को पे नही सोएगा सबको मिलेगा रहने को मकान ! …………………………………. देश की सीमा सुरक्षित होंगी नही होगा सैनिको के सर कटने का अपमान , कश्मीर को छोड़िए लाहौर को भारत से छुड़ाने के लिए छटपटाएगा पाकिस्तान ! …………………………………. देश मे अपनी तकनीक विकसित होगी देशी उद्योग धंधो का होगा उत्थान , चारो तरफ विकास होगा भारत को फिर से सोने की चिड़िया कहेगा जहान ! …………………………………. दोस्तो ना तो राणा जी खुशी मे भावुक है ना ही है ये कवि की कल्पना की उड़ान , इसके लिए ही तो अंग्रेज़ो से आज़ादी पाई थी और अब मोदी से भी है यही अरमान ! …………………………………. अवधेश राणा

harirawat के द्वारा
December 10, 2013

माना केजरीवाल ने दिल्ली के शीला दीक्षित के १५ साल के तख़्त को हिला दिया है लेकिन उसका मुकाबला भाजपा से रहा नहीं रहा ! केजरीवाल को मोदी के समकक्ष खड़ा करना, अभी सूरज को दीपक दिखाना है ! केजरीवाल एक उभरते हुए दिल्ली की आशाओं की किरण हैं जब कि मोदी एक सक्षम अंतर्राष्ट्रीय पहिचान हैं ! हाँ उन्हें एक बार पांच साल के लिए दिल्ली का मुख्य मंत्री बनने का अवसर मिल जाए तो आने वाले दिनों में वह भाजपा के लिए सर दर्द बन सकते हैं ! भाजपा को चाहिए कि अब उसे अपनी पार्टी से भेद की खाल ओढ़े तमाम भेड़ियों को दुष्कर्मियों को भ्रष्टाचारियों, जमाखोरों को बाहर का रास्ता दिखा दें नहीं तो आप उन्हें सता से च्युत कर देगी ! फिलहाल आप को ज़माने में केंद्र तक पहुँचाने में काफी पापड बेलने पड़ेंगे !

R P Pandey के द्वारा
December 10, 2013

यह बकवास के शिवा कुछ नहीं है ,पोल के अनुसार घाट बढ़ तो कांग्रेस और आप के सीटो में हुआ है ,भ ज पा को जितना कयास लगाया जा रहा था उतना सीट पाया है .मतलब आधे लोग आज भी भ ज पा को चाहते है /इसके अलावा दिल्ली नौकर शाहो का गढ़ है / लोगो ने नौकर shaah को jitaayaa , यह bhaaratiy राजनीति का katu सत्य है /तौकीर राजा फैक्टर भी काम कर गया /और फिर केजरीवाल ने वोट के लिए सभी षडयंत्र किया जब कि मोदी राष्ट्रवाद के लिए /इतिहास इस बात का गवाह है कि कभी कभी दो बहादुरो कि लड़ाई में कमजोर भी विजय पा जाता है /

    harirawat के द्वारा
    December 10, 2013

    मिट्टी पलीत तो कांग्रेस की हुई है राहुल से भिड़ाओ केजरीवाल को, जो आज भी भारत के प्रधानमंत्री की कुर्सी को ताक रहा है अपनी माँ के आंसुओं की बात कर रहा है !

Acharya Vijay Gunjan के द्वारा
December 9, 2013

ऊट किस करबट बैठेगा ? किसी को पता नहीं , सिर्फ हम कयास ही लगा सकते हैं , यहाँ की किंकर्तव्यविमूढ़ , भावुक और अविवेकी जनता के बारे में कुछ भी कहना मुश्किल है ! वैसे केजरीवाल जी जनता के दिलों को जीतते नजर आ रहे हैं !

Shashwat के द्वारा
December 9, 2013

You dont really think so right?? dont say this atleast at this time.

Shankar roy के द्वारा
December 9, 2013

दिल्ली चुनाव में अरविन्द केजरीवाल को मिली ऐतिहासिक सफलता इस ओर इसारा कर रही है कि जनता एक बरी बदलाव चाहती है. एक ओर बीजेपी को अत्यधिक सीटें मिलकर भी विजय प्राप्त नहीं हुई , वहीँ दूसरी ओर “आप” को कुछ कम ही सही, बहुत बरी उपलब्धि मिलना मात्र एक संयोग नहीं है . ऐसा इसलिए हो सका क्योंकि लोग बीजेपी को नहीं पर, मोदी को चाहते हैं . जिन लोगों को मोदी का मलाल है उन्होंने बीजेपी को वोट दिया, परन्तु जिन्होंने बीजेपी को सत्ता लायक नहीं समझा उन्होंने “आप” को वोट किया.

lavanya के द्वारा
December 9, 2013

शायद हां, लेकिन अभी कुछ भी कह पाना बहुत ही मुश्किल है. क्योंकि जनता जनार्दन कब क्या कर देगी कुछ कहा नहीं जा सकता है .


topic of the week



latest from jagran