blogid : 4920 postid : 640050

कांग्रेस का मनोबल तोड़ रहे हैं एक्जिट पोल सर्वे?

Posted On: 5 Nov, 2013 Others,Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

चुनाव आयोग ने चुनाव पूर्व होने वाले एक्जिट पोल पर बैन लगाने जैसे मुद्दे पर सभी राजनीतिक दलों की राय क्या मांगी देखते ही देखते यह मुद्दा कांग्रेस की साख का विषय बन गया है। चुनाव आयोग द्वारा उठाए गए इस मुद्दे पर कांग्रेस ने यह कहकर अपनी स्वीकृति दे दी कि ऐसे सर्वे जनता के फैसले को प्रभावित करते हैं। वहीं विपक्षी दल बीजेपी, एक्जिट पोल सर्वे की वजह से कांग्रेस में मची इस हलचल को आगामी चुनावों में कांग्रेस की हार से जोड़कर देख रही है। उल्लेखनीय है कि लगभग सभी एक्जिट पोल के अनुसार यही नतीजा सामने आ रहा है कि आगामी चुनावों में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ सकता है। जिसके बाद कांग्रेस ऐसे एक्जिट पोल सर्वे के विरोध में खड़ी हो गई है वहीं बीजेपी, कांग्रेस की इस मांग को उसका डर करार दे रही है। जिसके चलते यह मुद्दा एक बड़ी बहस का रूप ले चुका है कि क्या चुनावी सरगर्मियों के बीच एक्जिट पोल सर्वे जनता के मत को भ्रमित करते हैं या फिर वाकई कांग्रेस का डर ही है जो उसे एक्जिट पोल पर रोक लगाने की मांग उठाने के लिए विवश कर रहा है?


अपनी मांग का समर्थन करते हुए कांग्रेस की ओर से यह कहा जा रहा है कि एक्जिट पोल सर्वे के परिणाम पूरी तरह एक दल के प्रति झुके हुए होते हैं जिसकी वजह से इनकी विश्वसनीयता पर संदेह रहता है। जनता पर्दे के पीछे की राजनीति को समझ नहीं पाती और भ्रामक नतीजों के बीच उलझकर रह जाती है। परिणामस्वरूप वह सही निर्णय ले पाने में असमर्थ हो जाती है और सही तरीके से अपने मत का प्रयोग नहीं कर पाती।


वहीं दूसरी तरफ बीजेपी समेत अन्य विपक्षी दलों का कहना है कि कांग्रेस अपनी हार से डर गई है और इस डर की वजह से वह बेतुकी मांगें करती जा रही है। बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने तो यह तक कह दिया है कि अगर कांग्रेस एक्जिट पोल सर्वे पर बैन लगाने की बात कह रही है तो क्यों ना चुनाव आयोग और न्यायालयों पर भी पाबंदी लगा दी जाए? बीजेपी समेत अन्य बहुत से बुद्धिजीवी इस रोक की मांग को मीडिया की आजादी पर भी हमला करार दे रहे हैं।


उपरोक्त मसले के दोनों पक्षों पर गौर करने के बाद निम्नलिखित प्रश्न हमारे सामने उपस्थित हैं, जैसे:

  1. क्या एक्जिट पोल के नतीजे देखकर कांग्रेस पार्टी अपना मनोबल खोती जा रही है?
  2. एक्जिट पोल के नतीजे जनता को किस हद तक बरगला सकते हैं?
  3. बीजेपी का कांग्रेस पर यह निशाना किस हद तक सही है?
  4. क्या वाकई एक्जिट पोल के नतीजे पक्षपात पूर्ण होते हैं और जनता इससे नकारात्मक रूप से प्रभावित होती है?

जागरण जंक्शन इस बार के फोरम में अपने पाठकों से इस बेहद महत्वपूर्ण और संवेदनशील मुद्दे पर विचार रखे जाने की अपेक्षा करता है। इस बार का मुद्दा है:


कांग्रेस का मनोबल तोड़ रहे हैं एक्जिट पोल सर्वे?


आप उपरोक्त मुद्दे पर अपने विचार स्वतंत्र ब्लॉग या टिप्पणी लिख कर जाहिर कर सकते हैं।


नोट: 1. यदि आप उपरोक्त मुद्दे पर अपना ब्लॉग लिख रहे हैं तो कृपया शीर्षक में अंग्रेजी में “Jagran Junction Forum” अवश्य लिखें। उदाहरण के तौर पर यदि आपका शीर्षक “एक्जिट पोल” है तो इसे प्रकाशित करने के पूर्व एक्जिट पोल – Jagran Junction Forum लिख कर जारी कर सकते हैं।


2. पाठकों की सुविधा के लिए Junction Forum नामक कैटगरी भी सृजित की गई है। आप प्रकाशित करने के पूर्व इस कैटगरी का भी चयन कर सकते हैं।


धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार




Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran