blogid : 4920 postid : 635734

क्या कहते हैं राहुल गांधी के बदलते तेवर?

Posted On: 28 Oct, 2013 Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भारतीय जनता पार्टी ने नरेंद्र मोदी के रूप में प्रधानमंत्री पद के लिए अपने प्रत्याशी का चयन कर लिया है। लेकिन देश के सबसे बड़े राजनीतिक दल कांग्रेस की ओर से अभी तक यह तस्वीर स्पष्ट नहीं की गई है कि उनकी ओर से देश के भावी प्रधानमंत्री के तौर पर किसे चुना जाना है। हालांकि पार्टी के भीतर राहुल गांधी की लगातार विस्तृत होती छवि और कांग्रेस के इतिहास को देखते हुए यह कयास लगाए जाने लगे हैं कि कांग्रेस अपने उपाध्यक्ष राहुल गांधी को ही प्रधानमंत्री पद के लिए नामित करेगी। कुछ समय पहले तक जहां राहुल गांधी राजनीति के छिपे हुए चेहरे थे वहीं अब सक्रिय राजनीति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गए हैं। राहुल गांधी की इस बदलती हुई छवि और प्रधानमंत्री के तौर पर उनके चयन की संभावना को देखते हुए उनके व्यक्तित्व और इतनी बड़ी जिम्मेदारी को संभाल पाने की क्षमता को लेकर एक बड़ी बहस शुरू हो गई है क्योंकि जहां कुछ लोग यह मानते हैं कि राहुल गांधी अभी भी मुखर नेता नहीं बन पाए हैं वहीं दूसरी ओर राहुल गांधी को देश की जरूरत मानने वाले लोग भी कम नहीं हैं।


पहले वर्ग में शामिल लोगों का कहना है कि राहुल गांधी के भाषण में परिपक्वता नहीं बल्कि उनके ‘ममाज ब्वॉय’ होने की छवि दिखाई देती है। अपने भाषणों में या तो वे अपने परिवार का दुखड़ा सुनाते हैं या फिर अपनी मां और यूपीए अध्यक्षा सोनिया गांधी की दुर्दशा का वर्णन करते हैं। जहां उन्हें अपने भविष्य की योजनाओं का वर्णन करना चाहिए वे अपने परिवार के त्याग, बलिदान और उनकी हत्या जैसी बातें करते नजर आते हैं। ऐसा लगता है मानो वह जनता के बीच अपने और अपनी पार्टी के प्रति सहानुभूति पैदा करवा रहे हों। नरेंद्र मोदी के रूप में अपना भावी पीएम देखने वाले लोगों का कहना है कि मोदी शुरू से ही आक्रामक रवैया अपनाते आए हैं जबकि राहुल गांधी हमेशा शांत रहे हैं और अब जिस आक्रामक लहजे में वो बात करते हैं या भाषण देते हैं वह उन पर थोपा हुआ प्रतीत होता है। आज देश को एक सर्वआयामी और कठोर निर्णय लेने वाले प्रधानमंत्री की जरूरत है और राहुल इसके लिए पूरी तरह अयोग्य हैं।


वे लोग जो राहुल गांधी को भविष्य की जरूरत मानते हैं उनका कहना है कि राहुल गांधी की नेतृत्व क्षमता पर किसी भी प्रकार का संदेह करना उचित नहीं है। गांधी परिवार से ताल्लुक रखने वाले राहुल गांधी राजनीति के विभिन्न आयामों से वाकिफ हैं। पहले सांसद बनकर उन्होंने जमीनी राजनीति को समझा और फिर उपाध्यक्ष बनने के बाद उन्होंने संगठन को समझा। जमीनी हालातों से वाकिफ होने और अपने संगठन को समझने के बाद उन्होंने राष्ट्रीय राजनीति में कदम रखा है इसीलिए उनकी काबीलियत पर शक करने का सवाल ही पैदा नहीं होता। वैसे भी देश के सबसे पुराने या कहें पहले राजनीतिक परिवार से संबंधित होने की वजह से उनके अनुभव पर शक करना पूर्णतया बेमानी है क्योंकि पृष्ठभूमि अपने आप में अनुभव प्रदान करती है। राहुल के बदलते व्यक्तित्व और उनके अंदाज में आने वाले परिवर्तनों पर इस वर्ग के शामिल लोगों की राय है कि यह राहुल में आ रही परिपक्वता की निशानी है। उनका कहना है कि समय के साथ-साथ राहुल अपनी जिम्मेदारियों को लेकर गंभीर होते जा रहे हैं और उनके इस बदलते व्यवहार से किसी को परेशानी नहीं होनी चाहिए।


राहुल गांधी जैसे विशिष्ट व्यक्तित्व से जुड़े दोनों पहलुओं पर विचार करने के बाद निम्नलिखित प्रश्न हमारे सामने उपस्थित हैं, जैसे:

1. देश की वर्तमान जरूरतों को देखते हुए क्या राहुल गांधी प्रधानमंत्री पद के लिए उपयुक्त दावेदार हैं?

2. नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी के व्यक्तित्व में भारी अंतर हो सकता है लेकिन क्या इस अंतर की वजह से राहुल गांधी की दावेदारी को खारिज किया जा सकता है?

3. राहुल गांधी की पारिवारिक पृष्ठभूमि उन्हें एक सफल राजनेता बनाने में किस हद तक सहायक होगी?

4. राहुल गांधी के बदलते तेवर किस ओर इशारा करते हैं?


जागरण जंक्शन इस बार के फोरम में अपने पाठकों से इस बेहद महत्वपूर्ण और संवेदनशील मुद्दे पर विचार रखे जाने की अपेक्षा करता है। इस बार का मुद्दा है:

क्या कहते हैं राहुल गांधी के बदलते तेवर?


आप उपरोक्त मुद्दे पर अपने विचार स्वतंत्र ब्लॉग या टिप्पणी लिख कर जाहिर कर सकते हैं।


नोट: 1. यदि आप उपरोक्त मुद्दे पर अपना ब्लॉग लिख रहे हैं तो कृपया शीर्षक में अंग्रेजी में “Jagran Junction Forum” अवश्य लिखें। उदाहरण के तौर पर यदि आपका शीर्षक “राहुल गांधी” है तो इसे प्रकाशित करने के पूर्व राहुल गांधी – Jagran Junction Forum लिख कर जारी कर सकते हैं।


2. पाठकों की सुविधा के लिए Junction Forum नामक कैटगरी भी सृजित की गई है। आप प्रकाशित करने के पूर्व इस कैटगरी का भी चयन कर सकते हैं।


धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार



Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

yatindranathchaturvedi के द्वारा
November 22, 2013

राहुल गांधी : भारत की पुनर्खोज “Jagran Junction Forum” | कलम-पथ Link: http://yatindranathchaturvedi.jagranjunction.com/?p=644642

deepakbijnory के द्वारा
October 30, 2013

आज के परिप्रेक्ष्य में राजनीती के पटल पर यदि राहुल गांधी कि तुलना नरेंद्र मोदी से कि जाय तो राहुल गांधी का व्यक्तित्व नरेंद्र मोदी के सामने एकदम बौना नजर आता है प्रतिभा के नाम पर यदि राहुल में कुछ है तो शायद यही वे श्रीमती इंदिरा गांधी के पोते तथा श्री राजीव गांधी के पुत्र हैं तभी तो आज कि विषम राजनीती में जब भ्रष्टाचार और मंहगाई से घिरा यह देश एक नाजुक दौर से गुजर रहा है तो वह कोई मजबूत वादा न करते हुए अपनी दादी और पिता के नाम पर जनता को भावुक कर वोट बटोरने कि कोशिश कर रहे हैं आम तौर पर यह देखा गया है कि देश के किसी भी मुद्दे पर चाहे वह केदारनाथ त्रासदी हो या लोकपाल का मुद्दा वो वो कोई भी प्रतिक्रिया देने में सक्षम नहीं नजर आते देश कि अर्थव्यवस्था के बारे में उनकी कोई दूरगामी योजना भी नहीं दिखाई देती वह एक युवा नेता हैं इसमें कोई शक नहीं है परन्तु क्या उनकी सोच भी इतनी युवा है यह सोचने का विषय है अगर उन्हें अपने आप को एक युवा सोच वाले नेता के रूप में ही प्रस्तुत करना था तो जब पूरी दिल्ली दामिनी को न्याय दिलाने में संघर्षरत थी तो वह भी एक देशवासी के रूप में आगे आते और जनता के साथ साथ कन्धा से कन्धा मिलाकर शामिल होते तो आज पूरा देश उनके साथ होता अनुभव के आधार पर भी यदि तुलना करें तो मोदी के साथ पूरा गुजरात है जहाँ उन्होंने विकास को मुद्दा बनाकर सभी धर्मो को सामान रूप से प्रभावित किया जबकि राहुल गांधी अपने सुशाशन का उदहारण देने के लिए कुछ भी नहीं है एक समय था जब लोकपाल कि मांग लेकर पूरा देश अन्ना हजारे के साथ खड़ा हुआ था तब संपूर्ण देश कि नजर इस भावी नेता कि ओऱ थी परन्तु राहुल गांधी ने एक भी शब्द कहना मुनासिब न समझा यदि ये उस समय समय जनता के सामने लोकपाल के समर्थक के रूप में अपने आप को पेश करते तो आज मोदी कि छवि इनके सामने बौनी प्रतीत होती काले धन के मुद्दे पर भी इस युवा नेता ने चुप्पी साध ली थी जब इन सब मुद्दों पर इन्होने कोई शब्द न कहा तो अंततः ये सरे मुद्दे नरेंद्र मोदी कि झोली में आ गए उन्हें स्वयं मसीहा बनकर इन मुद्दों पर चर्चा करनी पड़ी आज जनता धर्म जाती पिता दादी आदि पारम्परिक मुद्दों से ऊब चुकी है उन्हें मुद्दा विकास का चाहिए यदि आज भी राहुल गांधी एक सुदृढ़ नेता के रूप में उभारना चाहते हैं तो कुछ नया कहे आज देश कि जनता को एक ऐसे नेता कि जरुरत है जो समय आने पर पाकिस्तान को भी आँख दिखा सके उसके पालनहार अमेरिका को भी माक़ूल जवाब दे सके तथा संयुक्त राष्ट्र संघ में भी देश कि एक साफ और ताक़तवर छवि पेश कर सके राहुल गांधी चाहें तो जनता के सामने अपनी ऐसी छवि पेश करें और देश कि बागडोर संभालें परन्तु क्या वह अपनी ऐसी छवि जनता के समक्ष ला पाएंगे यह तो समय ही बतायेगा इससे वह अपने पिता के सपनो का भारत बनाने में मददगार साबित होंगे


topic of the week



latest from jagran