blogid : 4920 postid : 608687

देशहित के खिलाफ है आजाद सोशल मीडिया ?

Posted On: 23 Sep, 2013 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मुजफ्फरनगर दंगों के बाद बुलाई गई राष्ट्रीय एकता परिषद की बैठक में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अपनी चिंता जाहिर करते हुए सोशल मीडिया को आड़े हाथों लिया। उनका कहना था कि सोशल मीडिया का जिस तरह प्रयोग होना चाहिए वैसे नहीं हो पा रहा है। प्रधानमंत्री का कहना था कि युवाओं के लिए सोशल नेटवर्किंग साइटें जानकारियां प्राप्त करने और उन्हें साझा करने का अच्छा माध्यम साबित हो सकती हैं लेकिन इसका प्रयोग इस दिशा में नहीं हो पा रहा है। मुजफ्फरनगर दंगों के बाद उठी यह चर्चा कोई आज की बात नहीं है हर बार यही देखा जाता है कि जब भी कोई घटना घटित होती है तो उससे संबंधित चर्चाएं फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइटों पर आम होने लगती हैं। दिल्ली गैंग रेप केस हो या फिर मुजफ्फरनगर में हुए दंगे, हर बार यही देखा जाता है कि कई बार सोशल नेटवर्किंग साइटों पर डाली गई जानकारियां व्यवस्थित माहौल को बिगाड़ने लगती हैं और समाज में एक अजीब से तनाव को जन्म दे देती हैं। महिलाओं की सुरक्षा और सांप्रदायिक सद्भाव दो ऐसे मुद्दे हैं जिस पर सोशल नेटवर्किंग साइटों पर होने वाली पोस्ट सबसे ज्यादा प्रभाव डालती हैं। हमारा समाज बहुत संवेदनशील है और कोई भी नकारात्मक या भ्रामक जानकारी समाज के लिए खतरा पैदा कर सकती है। ऐसे हालातों के मद्देनजर सोशल नेटविंग साइटों पर नियंत्रण और महिलाओं की सुरक्षा से जुड़ी उनकी भूमिका को लेकर एक बहस शुरू हो गई है।


बहुत से ऐसे लोग हैं जिनका मानना है कि फेसबुक, ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर नियंत्रण की बात लोकतांत्रिक समाज को शोभा नहीं देती। लोकतंत्र में सभी को अपनी बात कहने का अधिकार है और इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए सोशल नेटवर्क सबसे ज्यादा उपयोगी साबित होता है। जहां तक महिलाओं का मसला है तो ऐसी साइटों के माध्यम से वह अपने अधिकारों से संबंधित जानकारियां हासिल कर सकती हैं, अपनी बात अन्य लोगों को बता सकती हैं। वहीं दूसरी ओर इन सभी साइटों की ही वजह से आमजन अपने आसपास घट रही घटनाओं से परिचित होकर उन पर अपनी टिप्पणी कर सकते हैं, उनसे जुड़े पक्षों से अवगत हो सकते है। साथ ही सरकारी क्रियाकलापों और योजनाओं की जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं। इस वर्ग में शामिल लोग यह भी स्वीकार करते हैं कि हालांकि कुछ शरारती तत्व ऐसे हैं जो शांति व्यवस्था को आहत करने के लिए इन सोशल नेटवर्किंग साइटों का प्रयोग करते हैं लेकिन कुछ चुनिंदा लोगों की वजह से सोशल नेटवर्किंग को नियंत्रित करना सही नहीं है क्योंकि ये वो लोग हैं जो कोई ना कोई माध्यम ढूंढ़कर अपना मकसद पूरा कर ही लेंगे।


वहीं दूसरी ओर वे लोग हैं जिनका पक्ष है सोशल मीडिया को पूरी तरह नियंत्रित करना। इस वर्ग के लोगों का यह साफ कहना है कि बिना नियंत्रण के कभी कोई चीज लाभप्रद नहीं हो सकती। सोशल मीडिया पर प्रसारित सामग्रियों पर कोई निगरानी ना होने के कारण राष्ट्रीय अखंडता पर हर समय खतरा मंडराता रहता है। कभी भी कोई भी व्यक्ति कुछ भी ऐसा संचालित कर सकता है जो सामुदायिक या जातिगत भावनाओं को भड़का सकता है जिसकी वजह से सामाजिक ढांचा लड़खड़ा सकता है। सोशल मीडिया पर नियंत्रण रखने की मांग करने वालों का यह भी कहना है कि निजता का हनन, धार्मिक और सामाजिक भावनाओं को भड़काना, महिलाओं के विषय में भद्दी टिप्पणियां करना अनियंत्रित सोशल मीडिया का बड़ा दुष्प्रभाव है, जिसे दूर सिर्फ सोशल मीडिया को नियंत्रित कर के ही किया जा सकता है।


उपरोक्त चर्चा के दोनों पक्षों को जानने और समझने के बाद निम्नलिखित प्रश्न हमारे सामने उपस्थित हैं जिनका जवाब ढूंढ़ना हमारे लिए नितांत आवश्यक है, जैसे:

1. अनियंत्रित सोशल मीडिया शांति व्यवस्था के लिए किस प्रकार खतरा हो सकती है?

2. क्या सोशल मीडिया का उपयोग महिलाओं की सुरक्षा और उनकी अस्मिता के लिए खतरा है?

3. क्या नियंत्रित सोशल मीडिया लोकतंत्र के मूलभूत सिद्धांत के खिलाफ है?

4. क्या अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर किसी की निजता का हनन सही है?


जागरण जंक्शन इस बार के फोरम में अपने पाठकों से इस बेहद महत्वपूर्ण और संवेदनशील मुद्दे पर विचार रखे जाने की अपेक्षा करता है। इस बार का मुद्दा है:


देशहित के खिलाफ है आजाद सोशल मीडिया ?


आप उपरोक्त मुद्दे पर अपने विचार स्वतंत्र ब्लॉग या टिप्पणी लिख कर जाहिर कर सकते हैं।


नोट: 1. यदि आप उपरोक्त मुद्दे पर अपना ब्लॉग लिख रहे हों तो कृपया शीर्षक में अंग्रेजी में “Jagran Junction Forum” अवश्य लिखें। उदाहरण के तौर पर यदि आपका शीर्षक “सोशल मीडिया पर नियंत्रण” है तो इसे प्रकाशित करने के पूर्व सोशल मीडिया पर नियंत्रण Jagran Junction Forum लिख कर जारी करें।


2. पाठकों की सुविधा के लिए Junction Forum नामक कैटगरी भी सृजित की गई है। आप प्रकाशित करने के पूर्व इस कैटगरी का भी चयन कर सकते हैं।


धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.80 out of 5)
Loading ... Loading ...

34 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Williamjasy के द्वारा
January 8, 2014

Хочу продать аккаунты Yandex.ru XML SMS , Youtube.com PVA , Mamba.ru M , Yahoo.com Basic и другие. добавляйтесь в аську 23-15-38 аккаунты одноклассников , продам акки вк , онлайн магазин аккаунтов вконтакте , продам акки вконтакте , как зарегестрировать много акков на фейсбуке , покупка аккаунтов в контакте , онлайн магазин аккаунтов твиттер , продажа аккаунтов одноклассники , магазин аккаунтов , продаю аккаунты yandex , онлайн магазин аккаунтов мл , онлайн продажа аккаунтов всех соц сетей , покупка аккаунтов в контакте , email аккаунты yandex , покупка аккаунтов в контакте , продажа красивых аккаунтов gmail , продам дневник site:liveinternet.ru , куплю аккаунты gmail , продам акки мамба , купить акки вконтакте , продажа аккаунтов вк , покупка аккаунтов в контакте , продажа аккаунтов мамба , онлайн сервис аккаунтов вконтакте , gmail аккаунт купить , аккаунт xml , россия дамы красивые yahoo.ru gmaail.ru mail.ru hotmail.ru , магазин аккаунтов вконтакте , магазин aol.com аккаунтов , можно ли продать через myspace , аккаунты yahoo , продажа аккаунтов facebook .

Williamjasy के द्वारा
January 8, 2014

В продаже акаунты Yahoo.com , Редиректы 0Webhost , Outlook.com , Gmail.com RU и прочие. стучите в аську 231-538 mail ru аккаунты купить , купить аккаунты вконтакте , продажа аккаунтов вконтакте , купить аккаунты вконтакте , vkontakte.ru codi , купить аккаунт facebook , купить аккаунты вконтакте 2012 , магазин аккаунтов , магазин аккаунтов gmail , онлайн магазин аккаунтов , купить mail.ru аккаунты , купить gmail почту , купить акуант маил ру , редиректы pochta.ru , купить аккаунты вконтакте , продажа аккаунтов одноклассники , магазин аккаунтов mamba real , интернет магазин аккаунтов vkontakte , продажа аккаунтов вконтакте , интернет магазин аккаунтов drjynfrnt , магазин аккаунтов вконтакте , продам аккаунт вконтакте 2012 , покупка и продажа аккаунтов youtube , покупка аккаунтов в контакте , покупка анкет mamba , аккаунты вконтакте онлайн магазин , куплю аккаунты gmail 2012 , продажа аккаунтов твиттер , код от одноклассники ру , магазин аккаунтов yandex , аккаунт вконтакте купить 200 друзей , продам аккаунт gmail .

Williamjasy के द्वारा
January 8, 2014

Распродажа акки Мой Мир SMS , Spaces.ru SMS , Outlook.com , Youtube.com PVA и многие другие. пишите сразу в ICQ 231538 покупка аккаунта facebook , куплю mail.com акки , blogspot купить аккаунты , купить аккаунты вконтакте онлайн , продажа аккаунтов wordpress , акаунты на мамбе , где купить акки вконтакте , онлайн продажа аккаунтов всех соц сетей , онлайн продажа аккаунтов вк , продажа аккаунтов одноклассники , купить аккаунты mail.ru , продажа аккаунтов вконтакте онлайн , 935 hotmail gmail yahoomail.com , продажа аккаунтов в вконтакте , интернет магазин где продаются дневники майл ру , купить аккаунты яху , купить аккаунты вконтакте , продам аккаунты одноклассники , продам аккаунты одноклассники , купить аккаунты вконтакте , яндекс народ смс аккаунт , продам аккаунт , mamba real status , купить mail.com аккаунты , комментарий с аккаунта livejourna , продажа аккаунты вконтакте , куплю акк мамба , mail.ru купить аккаунты , купить tumbler аккаунты , facebook.com pva , где продать аккаунты gmail , аккаунты linkedin site:.ru .

sanjay के द्वारा
September 28, 2013

मुहम्मदाबाद/उरई(जालौन )! डाकोर थाने में तैनाद एक एक सिफाही ने वाइक में लिफ्ट देकर बार बार होने बलि सर्दी, जुखाम का सही उपचार टांसीलाइटिक कांग्रेश ने संघ पर साधा निशाना नै दिल्ली प्रधानमंत्री पद के लिय नरेन्द्र मोद्ही की उम्मीदवारी पर कांग्रेश ने एक बार फिर रास्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर निशाना साधा कांग्रेश ने शुक्रवार को आरोप लगाया की संघ मोदी की उम्मीदवारी के लिय भाजपा पर दवाव डाल रहा है आर अस नई दिल्ली (ब्युरॊ) प्रधानमंत्री पद के लिय उम्मीदवार घोषित होते ही नरेन्द्र मोदी ने देश के लोगो का अश्रीबाद माँगा उन्होंने कहा की देश संकट की स्थिति से गुजर रहा hai

MANTU KUMAR SATYAM के द्वारा
September 26, 2013

I MANTU KUMAR SATYAM,Sex-Male,age-29y,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority),Add-MANTU KUMAR SATYAM S/O,SHIVA PRSAD MANDAL,AIRCEL MOBILE TOWER,NEAR JAMUNA JOUR POOL,CASTAIR TOWN ,SARATH-MAIN ROAD, ,B.DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA ..POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHT ,FROM IIHR,NEW DELHI,SESSION-2012-14(ONE YEAR PG DIPLOMA COMPLETE ) aadhaar card number-310966907373,voter id card detail – DEOGHAR डिस्ट्रिक्ट,झारखण्ड,INDIA,number-MQS5572490 Subject detail- I victim due to caste & race matter on higher education by Hindu religion ,category-general, & caste-BHUMIHAR & RAJPUT of 15 dabang people from JAN-2011 .They related in my home city B.DEOGHAR. They dabang People torture to me, mixed side effect drug,drowsy drug & narco drug mix in my house food -drinking water everyday different technique by forcefully with weapon .me.Threaten of murder to me by with weapon 50-60 time to left the higher education of two join courses 1. M.SCCRRA from SMU-DE & 2.POST GRADUATE DIPLOMA IN CRIMINAL JUSTICE & FORENSIC SCIENCE victim other way to me mention above. They dabang people also some times have capture my assignment & demand draft force fully by weapon. They dabang people effect of my medication,make pressure to doctors.They have capture 20-25 time my medical prescription forcefully by weapon.They also threaten to me of murder of my father ,mother & brother. Due to complain TO CHAIRMAN, NHRC ,NEW DELHI,INDIA on date -2/06/2012 (first complaint ) by e-mail scan copy corresponding fax 4/06/2012 & 2nd complain on date-13/07/2012 .But have to not any support by NHRC,NEW DELHI.For case status find I have TO sent speed post for R.T.I.on date-10/09/2012(speed post no-EJ6O4094804IN) and date-29/11/2012 (speed post no. EJ087877023IN,H.O B.DEOGHAR,DIST-DEOGHAR,JHARKHAND-814112).Also sent R.T.I by e-mail date-01/12/2012. Also above mention matter of My case or F.I.R have not record by authorized staff/officer of town police station B.DEOGHAR ,DIRTSICT-DEOGHAR,JHARKHAND(MY ADDRESS UNDER THE B.DEOGHAR POLICE STATION) I have Contact 50-55 time of the police station . with above mention police station have not accept my complaint , I complaint application sent by speed post self handwritten 10 copy with 30 supporting document (speed post no-EJ605114624IN,H.P.O-B.DEOGHAR,JHARKHAND-814112) on date -21/09/2012 & by e-mail of same self hand written 10 scan copy with 30 supporting document on date-17/09/2012 to JHARKHAND STATE LEGAL SERVICE AUTHORITY ,RANCHI,JHARKHAND . Problem have to til now continue .In sept-2012 I have to join course TWO YEARS POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS from INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI ,session-2012-14 & roll no-384 /HR/2012. Also have to make disturbance of study of the course same of mention sent application on JHARKHAND STATE LEGAL SERVICE AUTHORITY ,RANCHI,JHARKHAND by speed post on date -21/09/2012 and by e-mail on date-17/09/2012 mention on above para graph . Therefore I sent next complaint application to SECREITYARY, JHARKHAND STATE LEGAL SERVICE AUTHORITY ,RANCHI ,JHARKHAND on date -14/11/2012 by speed post 5 hand written copy (speed post no-EJ 087860439IN) & now by e-mail (hand written 5 scan copy ) with 18 supporting document Again I sent SPEED POST date-14/11/2012 application by email on date -16/11/21012 & THE SECRETARY JHARKHAND STATE LEGAL SERVICE AUTHORITY,Near AG Office, Doranda , ranchi – 834002,jharkhand,INDIA. I have to mention of they dabang peoples name ,complete address & occupation.Also I have to try to publish news from 1 year it have not support to me by news channel and news paper in local city deoghar,dist-deogha,jharkhand,INDIA but not flash news.also contact to CAPITAL office jharkhand but not support to me flash news. ALSO PUBLISH BLOGG IN JULY- AUG BUT PROBLEM TILL NOW CONTINUE. date-26/09/2013

ushataneja के द्वारा
September 25, 2013

Jagran Junction Forum में बहुत ही बढ़िया विषय पेश किया है|

R P Pandey के द्वारा
September 25, 2013

देश हित के खिलाफ मिडिया नहीं इ नेता है , बस सोसल मिडिया इतनी गलती करती है की इ लोग जितना नीच है उतना नहीं दिखाती !अब तो होना यह चाहिए की एक एक नेता का प्रतिदिन उनके सम्पूर्ण कुकर्म का बिवरण सोसल मिडिया पर प्रसारित होना चाहिए .

deepakbijnory के द्वारा
September 24, 2013

आजाद सोशल मीडिया प्रजातंत्र की सबसे मजबूत बुनियाद आजाद सोशल मीडिया प्रजातंत्र की सबसे मजबूत बुनियाद के रूप में उभर कर आई है यह आम जनता की ताक़त है दामिनी बलात्कार का मुद्दा ही लीजिये यह किस्सा भी अन्य हजारों उन मुद्दों की तरह फाइल में दब कर ख़त्म हो गया होता परन्तु इस सोशल मीडिया ने ही इस केस की गंभीरता को समझते हुए पुरे राष्ट्र को न सिर्फ जगाया अपितु हर देशवासी की आत्मा को झकझोर कर रख दिया तथा दामिनी को संपूर्ण न्याय दिल कर ही दम लिया इसी प्रकार जेस्सिका लाल ,प्रियदर्शनी मट्टू ,नितीश कतर जैसे मुद्दे भी सोशल मीडिया के सजग रहते अपने सही अंजाम तक पहुँच सके समय समय पर यह सोशल मीडिया नारी के अधिकारों के लिए लड़ा यदि प्रतिबन्ध ही लगाना है तो इन्टरनेट की पोर्नोग्राफिक साईट पर लगाया जाना चाहिए जिसे देखकर हमारे देश का मासूम अब मासूम न रहकर कुत्सित मानसिकता से ग्रसित बलात्कारी में तब्दील होता जा रहा है जहाँ तक दंगो का सवाल है यह तो jag जाहिर ही हो चूका है की दंगे सत्ता के दबाव में आकर प्रशाशन की निष्क्रियता की वजह से फैले न की सोइअल मीडिया द्वारा इतिहास गवाह है इस बात का की जब जब दंगे हुए किसी न किसी राजनितिक स्वार्थ की वजह से हुए सोशल मीडिया में हर एक आम जन एक सजग पत्रकार की भूमिका निभाता है वह अन्य मीडिया की भांति पक्षपात नहीं करता तथा अपने स्वतंत्र विचार प्रस्तुत करता है उस पर नियंत्रण करना विचारों की अभियक्ति का सेध सीधा सीधा हनन होगा बॉम्बे का उदहारण लीजिये दो लड़कियों के एक राजनेता की मौत पर टिपण्णी देने पर हिरासत में लेने पर स्वयं सुप्रीम कोर्ट ने हस्तक्षेप कर विचारों की अभिव्यक्ति का हवाला देते हुए उन्हें रिहा करने का आदेश दिया था किसी के अर्तॊन बनाना कोई निजता का हनन नहीं मन जा सकता यह तो सदियों से होता आया है उल्टा दुसरे रूप में देखा जाय तो यदि आप सही हैं तो आपकी प्रसिद्धि और बदती जाएगी एक समय ऐसा भी था जब नेता साफ़ छवि के हुआ करते थे वे स्वयं पत्रकार से कहा करते थे की बड़े दिनों से उनका कोई कार्टून नहीं बनाया गया किसी पत्रिका में इन सभी बातो से येही निष्कर्ष निकलता है की यह सोशल मीडिया ही है जिसने समय समय पर महिलाओं को न्याय दिलाया महिलायों के हक की खातिर लड़ा सामाजिक बुराइयों को उजागर कर समाज को मंथन करने को मजबूर कर दिया साथ ही साथ आपत्तिकाल में देश को एकजुट किया एक बार मैं फिर इस बात पर जोर देना चाहूँगा की अगर प्रतिबन्ध ही लगाना है तो देश भर में बेलगाम होते फिल्मे अश्लील गाने तथा सबसे महत्वपूर्ण पोर्नोग्राफिक साइट्स पर पुर्णतः प्रतिबन्ध लगाए जिसने हमारे मासूम बच्चों को बलात्कारी और हत्यारा बना कर रख दिया इसे कार्य रूप में परनीत करने से हमारे देश में बलात्कार तथा हत्याओं के प्रतिशत में जबरदस्त गिरावट आएगी और हमारा युवा पथभ्रमित होकर भटकने के बजे मुख्या धरा में आकर देश की तरक्की में महत्वपूर्ण योगदान देने में सक्षम होगा

priya के द्वारा
September 24, 2013

मेरे विचार से सोशल मीडिया देशहित के खिलाफ नहीं हैं.ऐसे हर लोग के सोचने का अपना-अपना नजरिया होता हैं.

priya के द्वारा
September 24, 2013

हर चीज के दो पहलू होते है अच्छा और बुरा.हम किसी भी चीज को पूरी तरह गलत या सही नहीं कह सकते है.इसलिए हम सोशल मीडिया को पूरी तरह सही या पूरी तरह गलत नहीं कह सकते है .

riya के द्वारा
September 24, 2013

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की चिंता बिल्कुल गलत है मेरा मनना हैं कि सोशल मीडिया के आने से लोगों के बिच जागरूकता काफि बढ़ गई है . अब लोग हर छोटी बड़ी बातों पर अपनी राय देते हैं.


topic of the week



latest from jagran