blogid : 4920 postid : 583303

क्या वाकई पुरुष के बिना अधूरी है नारी?

Posted On: 19 Aug, 2013 Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

छोटी सी उम्र में विधवा हुई चित्रलेखा ने परिपक्वता के पड़ाव पर पहुंचने के बाद भी अपने जीवन में हमेशा पुरुष के सहारे को महत्व दिया। वह सुंदर थी, आत्मविश्वासी थी और हर परिस्थिति से जूझने की उसमें असीम शक्ति थी। समाज की तमाम भर्त्सनाओं को सहन करने के बाद भी उसने अपने मार्ग से विरक्त होने की कभी कोशिश नहीं की, वह नर्तकी और प्रेमिका बनकर खुश थी। उसके लिए जीवन की सजीवता का अर्थ हलचलों और उठा-पटक से था, जिनसे वह कभी नहीं घबराई लेकिन हारी तो सिर्फ पुरुष के प्रेम में पड़कर। ना जाने क्यों उसने हर मोड़ पर प्रेम और पुरुष के सहारे की जरूरत महसूस की। यह कहानी है प्रख्यात लेखक भगवतीचरण वर्मा के प्रसिद्ध उपन्यास ‘चित्रलेखा’ की मुख्य पात्रा चित्रलेखा की।



यह उपन्यास काफी पुराना है लेकिन बहुत हद तक आज के हालातों को वर्णित करता है। हमारे समाज में महिला के साथ पुरुष का होना अत्याधिक आवश्यक माना जाता रहा है। अकेले जीवन जीने की लालसा महिलाओं को निंदा का पात्र बनाती है। यह तो हुई समाज की बात लेकिन देखा यह जाता है कि महिलाएं भी खुद को बिना पुरुष के सहारे संबल नहीं पातीं। वह पुरुष के अधीन रहकर ही अपना जीवन व्यतीत करना चाहती हैं। महिलाओं की आत्मिक स्वतंत्रता से जुड़ा यह पक्ष थोड़ा निराश करने वाला तो है ही साथ ही हमेशा से ही एक बहस का मुद्दा रहा है कि अपनी स्वतंत्रता की मांग करने वाली महिलाएं क्या वाकई अपनी स्वतंत्रता के लिए गंभीर हैं या फिर मात्र एक छद्म स्वतंत्रता का ही आवरण ओढ़े रहना चाहती हैं?


स्त्री हित की पैरोकारी करने वाले लोगों का मानना है कि महिला और पुरुष प्रकृति की दो अनमोल रचनाएं और एक-दूसरे के पूरक हैं। दोनों एक-दूसरे के साथ जुड़े हुए फिर भी पूरी तरह अलग अस्तित्व के स्वामी हैं। ऐसे में महिलाओं को हर मोड़ पर पुरुष की गुलामी या उसके साथ की कोई आवश्यकता नहीं होती। अगर कोई कहता है कि महिलाएं अकेली अपने दम पर कुछ नहीं कर सकतीं या अपने जीवन को आत्मविश्वास के साथ जी नहीं सकतीं तो उसे वर्तमान परिदृश्य पर नजर डालनी चाहिए जहां ऐसी कितनी ही महिलाओं के नाम हमारे सामने हैं जो अकेली, स्वतंत्र और सफल जीवन जी रही हैं। इस वर्ग में शामिल लोगों का कहना है कि महिलाओं का अपना स्वतंत्र अस्तित्व है जिस पर कोई भी पहरा नहीं लगा सकता।


वहीं दूसरे वर्ग में शामिल लोगों का मानना है कि वैयक्तिक तौर पर महिलाएं वह चाहे कितनी ही सशक्त क्यों ना हों लेकिन अगर उसका हाथ थामने के लिए कोई पुरुष ना हो तो वह खुद को कमजोर ही पाती हैं। कुछेक महिलाओं के उदाहरण को सभी पर समान रूप से लागू नहीं किया जा सकता। प्राकृतिक तौर पर महिलाएं भावनात्मक रूप से कमजोर होती हैं और ऐसे में उन्हें पुरुष के सहारे की जरूरत पड़ती ही पड़ती है। प्यार और अपनापन दिखाकर पुरुष उन्हें अपने पास खींचता है और हैरानी की बात तो ये है कि वो खिंचती भी चली जाती हैं। रोने के लिए, हंसने के लिए, आगे बढ़ने के लिए यहां तक कि गिरने के लिए भी उन्हें पुरुष की जरूरत पड़ती है। यह एक कड़वा सच है कि हमारा समाज अकेली महिला को सम्मान नहीं देता उतना ही सच यह भी है कि महिलाएं भी पुरुष के साथ के बिना अपना जीवन संपूर्ण नहीं पातीं।


उपरोक्त विषय के दोनों पक्षों पर गौर करने के बाद निम्नलिखित प्रश्न हमारे सामने प्रस्तुत हैं जिनका जवाब ढूंढ़ना अत्यंत आवश्यक हैं, जैसे:

1. हर कदम पर महिला को पुरुष के सहारे की जरूरत क्यों पड़ती है?

2. क्या वाकई बिना किसी पुरुष के सहारे के महिलाओं का सफल जीवन व्यतीत करना व्यवहारिक है?

3. जिस तरह महिलाओं को पुरुष के साथ की जरूरत होती है क्या उसी तरह पुरुष भी महिलाओं के साथ के बिना अधूरे हैं?

4. प्रकृति ने महिला-पुरुष को एक-दूसरे के पूरक के रूप में बनाया है, ऐसे में अगर दोनों साथ रहना चाहते हैं तो इसमें गलत क्या है?


जागरण जंक्शन इस बार के फोरम में अपने पाठकों से इस बेहद महत्वपूर्ण और संवेदनशील मुद्दे पर विचार रखे जाने की अपेक्षा करता है। इस बार का मुद्दा है:


क्या वाकई पुरुष के बिना अधूरी है नारी?


आप उपरोक्त मुद्दे पर अपने विचार स्वतंत्र ब्लॉग या टिप्पणी लिख कर जाहिर कर सकते हैं।


नोट: 1. यदि आप उपरोक्त मुद्दे पर अपना ब्लॉग लिख रहे हैं तो कृपया शीर्षक में अंग्रेजी में “Jagran Junction Forum” अवश्य लिखें। उदाहरण के तौर पर यदि आपका शीर्षक “नारी का अस्तित्व” है तो इसे प्रकाशित करने के पूर्व नारी का अस्तित्व – Jagran Junction Forum लिख कर जारी कर सकते हैं।


2. पाठकों की सुविधा के लिए Junction Forum नामक कैटगरी भी सृजित की गई है। आप प्रकाशित करने के पूर्व इस कैटगरी का भी चयन कर सकते हैं।


धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार





Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

riya के द्वारा
August 24, 2013

ये वाकई अदभुत है. जहा नारी और पुरुष को एक दुसरे का पूरक माना गया गई वही पुरुष नारी पे शासन करना चाहते है. उन्हें लगता है उनका शारीरिक बल उन्हें ये हक़ देता है. मुझे न तो इतिहास में कोई ऐसा उदहारण दिखाई देता है जिसमे पुरुष ने स्त्री के लिए कुछ त्यागा हो न वेद में. आज का भी सच यही है की हम पुरुष सत्तात्मक समाज में रह रहे है जहा स्त्री सिर्फ एक भोग की वस्तु है और स्त्री की स्वत्रंता हमेशा आलोचना का विषय रही है. आज अगर कोई महिला अपने पारिवारिक जीवन बसाने के बजाय समाज के हित के लिए कुछ करना चाहती है तो ये समाज उनकी सराहना करने के बजाय उनकी आलोचना करता है, कभी कभी तो लगता है की लोग स्त्रियों को पालतू पशु से ज्यादा कुछ नही समझते जिनका उद्देश्य सिर्फ पोषक परिवार की जरूरतों को पूरा करना है, आज भी अर्धनारीश्वर का उदहारण सिर्फ शिव और पार्वती ही है जबकि कितने युग बीत गये. आज कोई पूरक नही बस जरुरत है.

deepakbijnory के द्वारा
August 22, 2013

क्या वाकई पुरुष के बिना अधूरी है नारी JAGRAN JUNCTION FORUM पुरुष द्वारा नारी को समर्पित कविता के इस नव प्रभात मेँ , तुम ही मेरा वन्दन हो । माँ सरस्वति को करुँ समर्पित , तुम ही तो वह चन्दन हो। जीवन की इस नव बगिया मेँ , तुम्हीँ भ्रमर का गुंजन हो। तुम ही मेरी प्रथम प्रेरणा तुम ही अन्तिम स्पन्दन हो । इस उपवन की नवीन लता का , तुम ही तो अवलम्बन हो। मेरे उर की नव त्रिष्णा का , तुम ही वह आलिँगन हो । इस जीवन के प्रथम प्रणय का , तुम ही तो वह चुम्बन हो। पीडा मेँ आनन्दित करता, अग्नितप्त वह कुन्दन हो। तुममेँ लिखता तुमको लिखता , तुम ही मेरा अभिनन्दन हो । दीपक पाँडे नैनीताल

deepakbijnory के द्वारा
August 21, 2013

आप सिक्के का एक ही पहलु देख रहे हैं स्तिथि इसके बिलकुल उलट पुरुष नारी के बिना अधूरा है पति के मर जाने पर नारी पूरा जीवन अकेले गुजार सकती है परन्तु पत्नी के मरने पर समाज उसकी दूसरी shaadi करा देता है क्यूंकि नारी तो अकेले जीवन गुजरने में सक्षम है परन्तु कमजोर पुरुष नहीं पुराने उपन्यास के बजे यथार्थ के धरातल पर विचार करे तो नारी के बिना पुरुष अधूरा है बचपन में माँ फिर पत्नी वह अकेला रहने में सक्षम ही कहाँ है

achyutanandpandey के द्वारा
August 19, 2013

मेरी समझ से यह कहना उचित होगा की स्त्री और पुरुष एक दूसरे के पूरक हैं !एक की कल्पना दूसरे के बिना अधूरी है !दोनों गाड़ी के दोनों पहिया हैं सिक्का के दोनों पहलू हैं !गार्डेन ऑफ़ ईडेन में जब एडम अकेला था तो इश्वर ने उसका साथ देने के लिए इव की रचना की तभी से स्त्री पुरुष एक दूसरे के पूरक बन गए !


topic of the week



latest from jagran