कैसे मिटेगा भ्रष्टाचार - क्या है आपकी राय

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भ्रष्टाचार विश्वव्यापी समस्या तो है ही किन्तु भारत में ये बीमारी कुछ ज्यादा ही गंभीर हो चली है. हाल ही हुए कामनवेल्थ, 2-जी स्पेट्रम जैसे घोटालों ने ये साबित कर दिया है कि राजनीतिज्ञों और भ्रष्टाचार का चोली-दामन का साथ हो चुका है और देश ने यदि जल्द ही कोई उपाय नहीं किए तो फिर भारत को विश्व पटल पर शक्तिशाली और विकसित देश बनाने का सपना, सपना ही रह जाएगा.


Jagran Junction Forum राजनैतिक-प्रशासनिक और आपराधिक गठजोड़ भ्रष्टाचार में वृद्धि के लिए    सबसे ज्यादा उत्तरदाई हैं और इसमें कमी लाने के लिए जनलोकपाल क़ानून की दिशा में प्रयास किए जा रहे हैं. साथ ही लोगों की अपने क्षुद्र स्वार्थों के लिए भ्रष्टाचार में संलिप्तता स्थिति को और भी गंभीर बनाती है.


जागरण जंक्शन अपने पाठकों से ये सवाल करता है कि अनियंत्रित रूप से फैलते जा रहे भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए कौन से प्रभावी उपाय हो सकते हैं? क्या भ्रष्टाचार को पूरी तरह खत्म किए जाने की कोई गुंजाइश है?


नोट: जागरण जंक्शन फोरम में भाग लेने के लिए आप इस मुद्दे पर अपने विचार टिप्पणी या स्वतंत्र ब्लॉग के रूप में जारी कर सकते हैं.

| NEXT



Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (142 votes, average: 4.20 out of 5)
Loading ... Loading ...

137 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

omprakash mishra के द्वारा
August 21, 2014

भरस्टाचार हमारे देस की सबसे बड़ी समस्या है जिससे हम आगे नहीं बड़ रहे है ओर नहीं बढ़ेंगे क्योकि हम ही खुद भ्रस्ट है जब तक हम अपने अंदर की भ्रस्ट ब्यक्ति को नहीं निकाल तब तक हमारा देस भ्रस्ट रहेगा

umardeen के द्वारा
April 24, 2014

If prevent corruption in india it possible 100 % all tranjection by bank it good way break corruption

mahendra choudhary के द्वारा
February 5, 2014

रोकने के उपाय़

sunil sharma के द्वारा
January 10, 2014

भआए

star के द्वारा
October 26, 2013

सहानीय. ऐसे ही विचारधारा देश में परिवर्तन ला सकती है.

hema के द्वारा
October 16, 2013

we all have to do something for our country nd first of all we shoud be the true person .

kapil के द्वारा
February 4, 2013

जितने भी सरकारी अधिकारियो को नियुक्त किया जाता है उनको नियुक्त करते समय उनसे लिखत में ले लिया जाये की यदि में कोई भी घुस लेता हुआ पकड़ा गया तो मुझे प्राण दंड की सजा स्वीकार है और इस लिखित पेपर को जमा कर रखना चाहिए और जब भी ऐसा कोई मुजरिम पकड़ा जाये उसको वो सजा दी जाये ! इसके अतिरिक्त हम ऐसा भी कर सकते है हर घुसखोर की सजा का एक परचा तैयार कर न्यूज़ पेपर में दे सकते है की हर प्रकार की केटेगरी के घुस्घोर को उसी प्रकार की सजा दी जाये और उसमे मौत की सजा भी हो और इस पात्र की नियुक्त करते हुए अधिकारी को दिया जाये की इसको याद रखे ……

komal के द्वारा
September 11, 2012

thise easy most beautiful………………..

gaurav mishra के द्वारा
August 15, 2012

भ्रस्ताचार को ख़त्म करने क लिए ये जरूरी नही ह की देश भर में आन्दोलन किया जाये या मीडिया घोटालो का राज खोलती रहे…… …जहा तक में समजता हूँ की हर कोई ये कहता हे की ”आज हमरा पुर सिस्टम भ्रस्त हो चूका हे”… तो प्रश्न ये उठता हे की सिस्टम में कौन हे…..आप,हम,और हमारे परेंट्स ..तो फिर कोई ऐसा क्यूँ नही बोलता की उसके पाप भ्रस्त हें…या वो स्वयं…..भ्रस्ताचार मिटने के लिए सिर्फ और सिर्फ एक ही मंत्र है…… …”हम सुधरेगे तो, जग सुधरेगा ”

kanchan के द्वारा
August 12, 2012

हमे ये जानना है अगर कोइ महिला ने जालि पहचान पत्र और जालि फोतो और जालि नाम लिख्वाकर अपना पहचान पत्र बनाया है तो क्या सजा महिला को मिलेगि. महिला होने के करन वो कुच भि कर सकति है उस्से कोइ भि सजा नहि मिलेगि. क्या हमरे देश मे पुरुश और महिला मे इतना मत्भेद क्यु है ?




latest from jagran